नाखून का त्वचा में धसना, अंदर की ओर बढ़ना, लक्षण और इलाज – Ingrown Nails in Hindi

इनग्रोन टोनेल, नाखून का त्वचा में धसना, नाखूनों की बीमारी, नाखून अंदर की ओर बढ़ना , पैर के नाखून, ओनिकोक्रिप्टोसिस लक्षण और इलाज -(Ingrown Toenail) in Hindi

Contents

नाखून का त्वचा में धसना (Ingrown Toenails)

पैर के नाखून जब किनारों से पैर की त्वचा में अंदर बढ़ना शुरू करते हैं, तो इस स्थिति को नाखून का त्वचा में धसना (Ingrown toenails) या ओनिकोक्रिप्टोसिस कहते हैं। जिन लोगों के पैर के नाखून बड़े होते हैं, उनमें ये समस्या होने की संभावना अधिक होती है।

इस समस्या को घरेलू उपायों से ठीक किया जा सकता है। लेकिन कई बार यह ऐसी समस्याओं का कारण बनते हैं, जिनको इलाज की आवश्यकता होती है। यदि आप डायबिटीज या रक्त संचार से जुड़ी किसी समस्या से ग्रसित हैं, तो समस्या जटिल होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

नाखून के बढ़ने की समस्या को क्या कहते हैं? (What is the problem of nail growth?)

बढ़े हुए पैरों के नाखून का एक हिस्सा जब मुड़कर उँगलियों के कोमल टिशू में धंसने लगता है, वह स्थिति अंदरूनी तौर पर विकसित नाखूनों की होती है।

मेडिकल जुबान में इसे ओनिकोक्रिप्टोसिस (onychocryptosis) के नाम से जाना जाता है। यह आम तौर पर नाखून के आसपास के कोमल क्षेत्रों में माइक्रोबियल संक्रमण के कारण होता है।

ज्यादातर यह दर्दनाक होता है और लाल होकर सूजन पैदा कर सकता है। जैसे-जैसे यह आगे बढ़ता है और अगर आपने इसे बिना देखभाल के छोड़ दिया तो मवाद पैदा कर सकता है। इसका मतलब है, इसमें संक्रमण का स्रोत है।

नाखूनों की खराब देखभाल से ऐसा हो सकता है। गलत मोज़े पहनने या छोटे घाव जिनको अनदेखा छोड़ दिया गया हो, के कारण भी ऐसा हो सकता है।

यह कुछ मामलों में जेनेटिक कारणों से भी ऐसा हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि विकृत नाखूनों का पारिवारिक इतिहास है।

अच्छी खबर यह है, कि कुछ ख़ास चीजों के गुणों के वजह से, आप इनसे कम से कम समय में आराम पाने के लिए घरेलू उपचारों का उपयोग कर सकते हैं।

नाखून अंदर की ओर बढ़ना, इनग्रोन टोनेल
नाखून अंदर की ओर बढ़ना, इनग्रोन टोनेल, ओनिकोक्रिप्टोसिस

इनग्रोन टोनेल ( Ingrown Toenail )

हाथों की खूबसूरती का राज है सुंदर और स्वस्थ्य नाखून। कई बार नाखूनों की वजन से हाथों की खूबसूरती भी खराब हो जाती है। नाखूनों पर डैड स्किन और क्यूटिकल आ जाना तो आम समस्या है लेकिन आज हम आपको इनग्रोन टोनेल की समस्या के बारे में बताने जा रहें है।

पैर में अंदरूनी नाखून निकलना यानि इनग्रोन टो-नेल्स एक ऐसी समस्या है, जिसमें उंगलियों से जुड़े मांस के अंदर से नया नाखून निकल आता है। इस समस्या के कारण पैरों में दर्द, उंगलियों का लाल होना, सूजन आना और कभी-कभीर खून निकलना जैसी परेशानियां हो जाती है। कुछ लोग इस परेशानी को दूर करने के लिए नाखूनों को काट देते है लेकिन वो फिर आ जाते है। इसके अलावा इससे इंफेक्शन का डर भी रहता है।

ऑनीकौक्रिप्टोसिस या इनग्रोन टोनेल क्या होता है? (What is onychocryptosis or ingrown toenail?)

    1. ऑनीकौक्रिप्टोसिस जो इनग्रोन टोनेल या अंदर की ओर बढ़े हुए पैर के नाखूनों के रूप में जाना जाता है, एक मेडिकल हालत है जो तब होती है जब पैर की उंगली का नाखून त्वचा के अंदर बढ़ जाता है।
    2. यह एक आम परेशानी है, खास तौर से उन लोगों के लिए जो हवादार और लचीली मटेरियल से बने आरामदायक जूते नहीं पहनते हैं।
    3. हालांकि यह हाथों में हो सकता है, ज्यादातर यह एक या दोनों पैरों के अंगूठे में दिखाई देता है।
    4. यह आम तौर पर प्रभावित क्षेत्र में लाली और सूजन के साथ होता है। आगे चलकर होने वाली जटिलताओं से बचने के लिए इसका जल्द से जल्द इलाज करना चाहिए।
    5. हालांकि यह आम तौर पर किसी अहम हेल्थ रिस्क को पैदा नहीं करता है यह जरुरी है कि आप संक्रमण के रिस्क को कम करने के लिए किसी प्रकार के उपाय का उपयोग करें।

ओनिकोक्रिप्टोसिस नाखूनों की बीमारी (Onychocryptosis Nail disease)

नाखूनों के अन्दर से बढ़ने की समस्या या ओनिकोक्रिप्टोसिस (Onychocryptosis) नाखूनों की एक काफी आम बीमारी है। यह एक काफी जिद्दी बीमारी है, जिसके अंतर्गत नाखून इस तरह बढ़ते हैं कि इससे अंत में नाखूनों के ऊपर के दोनों तरफ का हिस्सा कट जाता है जो काफी दर्दनाक होता है।

यह बीमारी आमतौर पर एक जीवाणु द्वारा पैदा की गयी सूजन से शुरू होता है और इसके बाद नाखून त्वचा की गहरी परत में अटक जाते हैं। यह एक जाना माना तथ्य है कि ज़्यादातर हम अपने हाथों और पैरों में अन्दर से बढ़े नाखून देखते हैं, पर यह आमतौर पर पैर के अंगूठे के नाखूनों के साथ ही ज्यादा होता है। इस समस्या के कई कारण हो सकते हैं जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

    • सबसे पहले अंगूठे के नाखूनों पर काफी कसावट वाले जूते पहनकर दबाव डालने से भी नाखून अन्दर से बढ़ने की समस्या सामने आती है।
    • कई बार पैर के अंगूठे के नाखून में चोट लगने से भी नाखून बढ़ने की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
    • अपने नाखूनों को नियमित रूप से काटना काफी अच्छी बात है, पर इसे काफी छोटा काट देने पर भी नाखूनों के अन्दर से बढ़ने की समस्या सामने आ सकती है।
    • इसके अलावा नाखूनों को बराबर लम्बाई में काटने से भी ओनिकोक्रिप्टोसिस की समस्या सामने आ सकती है।
    • नाखूनों को बेहिसाब लंबा करने से भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती है।

अंगूठे का नाखून अंदर की ओर बढ़ना क्या है? – इनग्रोन टोनेल ओनिकोक्रिप्टोसिस (What is the thumb nail moving in? – Ingrown toenail onychocryptosis)

यह रोग ज्यादातर पैरों के अंगूठे में होता है। इस रोग में नाखून का कोना (अगला हिस्सा) मांस में बढ़ते हुए अन्दर तक चला जाता है जो चुभन के साथ दर्द उत्पन्न करता है। नाखूनों में कभी-कभी रोग संक्रमित होकर तेज दर्द उत्पन्न करता है। इस रोग में नाखून व साथ वाले मांस में मवाद व सड़न पैदा होने लगती है।

किसी भी उम्र का कोई भी व्यक्ति कई कारणों से किसी न किसी तरह की नाखून से सम्बंधित समस्या से परेशान रहता है। आप के नाखून मोटे ,कमज़ोर, रंगहीन हो सकते हैं या अनियमित ढंग से बढ़ सकते हैं।

सबसे आम समस्याओं में से एक है अंदर की तरफ बढ़ हुआ नाखून , या ओनिकक्रिप्टोसिस , जो तब होता है जब नाखून का सिरा आसपास की नरम त्वचा में प्रवेश कर जाता है। अंदर की तरफ बढ़ा हुआ नाखून सभी उम्र के पुरुषों और महिलाओं को परेशान कर सकता है, जिससे दर्द, बेचैनी और गंभीर सूजन भी हो सकती है।

अंदर की तरफ बढ़ा हुआ नाखून एक आम समस्या है , विशेष रूप से पैर के अंगूठे पर । अंदर की तरफ बढ़ा हुआ नाखून का इलाज बहुत संवेदनशील हो सकता है और अगर नाखून में संक्रमण हो जाये तो इसका इलाज काफी समय ले सकता है।

नाखून अंदर की ओर बढ़ना एक सामान्य स्थिति है, जिसमें नाखून त्वचा की ओर मुड़ने लगता है। इसकी वजह से दर्द, लालिमा, सूजन और कभी-कभी संक्रमण हो जाता है। आमतौर पर यह समस्या अंगूठे में होती है।

इस स्थिति का ध्यान आप घर पर ही खुद रख सकते हैं, लेकिन अगर तेज दर्द हो रहा है या दर्द फैल रहा है तो डॉक्टर इसे और बढ़ने से रोकने में आपकी मदद कर सकते हैं। यदि आपको डायबिटीज या अन्य कोई विकार है जिसमे पैरों में रक्त का प्रवाह कम होता है तो आपमें इस समस्या का खतरा ज्यादा है।

Onychocryptosis, ओनिकोक्रिप्टोसिस, ऑन्कोक्रिप्टोसिस, इनग्रोन टोनेल, नाखूनों की बीमारी
Onychocryptosis, ओनिकोक्रिप्टोसिस, ऑन्कोक्रिप्टोसिस, इनग्रोन टोनेल, नाखूनों की बीमारी

पैर का नाखून अंदर की ओर बढ़ने के लक्षण (Symptoms of toe moving inward)

पैर का नाखून अन्दर की ओर बढ़ने (Ingrown toenails) के कई लक्षण होते हैं। नाखून बढ़ने की निशानियाँ और लक्षण (Signs & symptoms of ingrown toenails ( nakhun ke rog) or ओनिकोक्रिप्टोसिस (onychocryptosis)

नाखून अंदर की ओर बढ़ने की स्थिति इनग्रोन टोनेल या ओनिकोक्रिप्टोसिस के निम्न लक्षण हैं:

    • नाखून के एक या दोनों तरफ दर्द और छूने पर दर्द होना
    • नाखून के आसपास लालिमा
    • नाखून के आसपास सूजन
    • नाखून के आसपास के ऊतक में संक्रमण
    • बड़े हुए नाखून की जगह से खून आना
    • जख्म में पस होना इत्यादि।
    • पैरों के पास रक्त के संचार में कमी आना

पैर का नाखून अन्दर की ओर बढ़ने के क्या कारण होते हैं? (What causes toe toes to move inwards?)

गर्म और नमीं युक्त वातावरण में पैरों में बैक्टीरिया और फंगस पैदा होने लगते हैं। इसमें स्टेफिलोकोक्कस (Stapylococcus), सिउडोमोनास (Pseudomonas) डर्माटोफिटिस (Dermatophytes) व कैंडिडा (Candida) को शामिल किया जाता है। जब त्वचा नाखूनों के किनारों से फटती हैं तो जीवाणु इसमें फैल जाते हैं और ये संक्रमण का कारण बनते हैं।

इन दिनों पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ना एक आम समस्या बन गई है. इसके पीछे कई कारण होते हैं जो जिम्मेदार होते हैं. नाखून के किनारों या कोने ज्यादातर इस परेशानी से प्रभावित हो जाते हैं. यह अक्सर एक पैर के अँगूठे का संक्रमण प्रतीत होता है, जबकि ऐसा नहीं है. पैर की बड़ी अंगुली पैर के नाखून का अंदर की ओर बढ़ने मुद्दे के लिए अत्यधिक प्रवण हैं. इसलिए आपको बहुत सावधान रहना चाहिए.

इससे पहले कि समस्या गंभीर हो, आपको इसे रोकने के लिए सावधानीपूर्वक कदम उठाने चाहिए. चिकित्सा सलाह की आवश्यकता होती है ताकि सही उपचार का चयन किया जा सके और आपको लक्षणों से तुरंत राहत मिल सकें. नाखून के चारों ओर की त्वचा निविदा हो जाती है और पैर के अंगूठे में बहुत दर्द के साथ सूजन या कड़ी हो सकती है.

पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ने के प्रमुख कारण:

    1. गलत नाखून काटना: यदि आप अपने पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ने को सही तरीके से काटने में गलती करते हैं, तो आपको एक इंजेक्शन पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ने की स्थिति का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए आपको किसी भी नाखून कटर की मदद से अपने पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ने को काटने के दौरान हमेशा ध्यान केंद्रित करना चाहिए. ज्यादातर मामलों में घुमावदार या अनियमित नाखूनों को बहुत सावधानी से काटा जाना है.
    2. गलत जूते: यदि आपने गलत जूते चुन लिए हैं, जो आपके पैरों पर भारी मात्रा में दबाव पैदा करते हैं, तो यह इस तरह की नाखून की स्थिति विकसित कर सकता है. इन प्रकार के जूते के केवल बार-बार या लगातार उपयोग इस भयानक स्थिति को विकसित कर सकते हैं. कभी-कभी, अत्यधिक तंग स्टॉकिंग्स या मोजे भी इंजेक्शन पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ने के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं.
    3. अनुचित स्वच्छता: तीव्र पैर स्वच्छता को बिना किसी असफलता के बनाए रखा जाना चाहिए अन्यथा आप नाखूनों को रोकने में सक्षम नहीं होंगे. आपको हमेशा अपने पैरों को साफ और सूखा रखना चाहिए. यदि आपके पैर लंबे समय तक नमी के संपर्क में रहते हैं, तो यह स्थिति उत्पन्न हो सकती है. अब आप अपने पैरों पर नाखूनों को धोने के लिए बाजार में उपलब्ध विशेष समाधान का उपयोग कर सकते हैं.
    4. पैर के अँगूठे की चोट: यदि आपको अपने पैर के अँगूठे पर कोई चोट है, तो इसे जल्द से जल्द ठीक करने की जरूरत होती है अन्यथा चोट नाखूनों में परिवर्तित हो सकती है. तीव्र दर्दनाक संवेदनाओं और इन प्रकार के अनुभवों में कौन से और परिणाम असहनीय हैं. गरीब मुद्रा आपके पैर के नाखून अंदर की ओर बढ़ना में चोट लगी हो सकती है. यदि आपके पास कोई मौजूदा पैर के अंगूठे की चोट है, तो आपको इसकी शीघ्रता से पुनर्प्राप्ति के लिए अपने स्तर का सर्वोत्तम प्रयास करना चाहिए.
    5. खराब स्वास्थ्य-स्थितियां: कई स्वास्थ्य स्थितियां हैं, जिसके परिणामस्वरूप टोननेल में प्रवेश होता है, जिनमें से मधुमेह सबसे प्रमुख है. खराब रक्त परिसंचरण के कारण, आपके पैरों पर नाखून आंतरिक रूप से क्षतिग्रस्त हो जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप नाखून निकलते हैं.

नाखून अंदर की ओर बढ़ना –  के कारण नीचे बताए गए हैं:

    • ऐसे जूते पहनना जिससे नाखून को नुकसान पहुंचे
    • पैरों के नाखूनों को बेहद छोटा काटना
    • नाखून पर चोट लगना
    • नाखून असामान्य रूप से मुड़ा हुआ होना
    • नाखून का आकार ठीक न होना
    • नाखूनों की सही से सफाई न करना या पैरों की स्वच्छता पर ध्यान न देना
    • गलत स्थिति में बैठना या चलना
    • ज्याद पसीना आना
    • अंनुवाशिक कारण

नाखून अंदर की ओर बढ़ना रोग का इलाज (Nail inward treatment of disease)

अगर नाखूनों की बीमारी ज्यादा गंभीर नहीं है तो इसे घर पर ही ठीक किया जा सकता है। सामान्यतः पैर के नाखून उंगली में अंदर की ओर बढ़ना किसी संक्रमण के कारण नहीं होता है। हालांकि, अगर पैर का नाखून उंगली की त्वचा में छेद कर दे, तो यह इन्फेकशन का संकेत हो सकता है। इस स्थिति में पैर की उंगली की त्वचा का गर्म होना, पस होना, लालिमा आना या सूजन आदि इन्फेक्शन के संकेत दिख सकते हैं।

पैर का नाखून अन्दर की ओर बढ़ने के निम्नलिखित कुछ घरेलू उपाय किए जा सकते हैं:

    • पैर को 15 से 20 मिनट के लिए गर्म पानी में डूबाकर रखें और ऐसा दिन में करीब तीन से चार बार दोहराएं।
    • नाखून के किनारों की त्वचा को जैतून के तेल में भिगोई हुई रूई से ही हटाएं।
    • दर्द के लिए एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) जैसी ओवर-द-काउंटर (डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के बिना मिलने वाली दवा) दवा का उपयोग कर सकते हैं।
    • संक्रमण को रोकने के लिए एंटीबायोटिक पॉलीमैक्सीन, नियोमाइसिन या स्टेरॉयड क्रीम लगा सकते हैं।

यदि नाखून अंदर की ओर बढ़ने की स्थिति ओनिकोक्रिप्टोसिस गंभीर रूप ले चुकी है तो डॉक्टर निम्नलिखित ट्रीटमेंट दे सकते हैं:

    • नाखून उठाना:  अगर इनग्रोन टोनेल नाखून हल्का-सा बढ़ा (लालिमा और दर्द हो, लेकिन मवाद न हो) हो तो डॉक्टर सावधानी से प्रभावित नाखून को उठाने की कोशिश करते हैं और उसके नीचे रूई, डेंटल फ्लॉस या स्प्लिंट या रूई लगा सकते हैं। यह नाखून को सही तरीके से बढ़ने में मदद करता है।
    • प्रभावित नाखून को निकालना: अधिक गंभीर (लालिमा, दर्द और मवाद) मामले में, डॉक्टर खराब नाखून को काट या निकाल सकते हैं।

पार्शियल नेल रिमूवल – नाखूनों की बीमारी (Partial Nail Removal – Nail Disease)

कई बार नाखून के अंदर की ओर बढ़ने पर सर्जरी की सलाह भी दी जाती है। इस प्रक्रिया को पार्शियल नेल रिमूवल कहा जाता है जिसमें स्किन के अंदर घुसे नाखून के हिस्से को निकाल दिया जाता है। इस दौरान डॉक्टर प्रभावित उंगली को सुन्न कर देते हैं। आंशिक रूप से नाखून के प्रभावित हिस्से को काटा जाता है, ताकि नाखून का किनारा पूरी तरह से सीधा हो सके।

पैर के नाखून की सर्जरी (Matrixectomy)

पैर का नाखून अन्दर की ओर बढ़ने का इलाज सर्जरी के द्वारा भी किया जा सकता है। इस प्रक्रिया में की जाने वाली सर्जरी थोड़ी अलग होती है। इसमें पैर की उंगली के अंदर बढ़ने वाले नाखून का केवल उतना हिस्सा ही निकाला जाता है, जो उंगली की त्वचा को नुकसान पहुंचाता है। इसके लिए डॉक्टर आपके पैर की प्रभावित उंगली को सुन्न करते हैं और फिर इनग्रोन टोनेल नाखून को काट देते हैं।

मैट्रिक्सटेकॉमी क्या होती है? (What is Matrixectomy?)

इसके अलावा जब नाखून मोटे होने से यह स्थिति उत्पन्न हुई है तो इसके लिए डॉक्टर पूरा नाखून निकाल सकते हैं। इस दौरान दर्द से बचने के लिए इंजेक्शन देते हैं और फिर पूरे नाखून को निकाल देते हैं। इस सर्जरी को मैट्रिक्सटेकॉमी कहते हैं।

Matrixectomy, मैट्रिक्सटेकॉमी
Matrixectomy, मैट्रिक्सटेकॉमी

पैर के नाखून अन्दर की ओर बढ़ना की दवा (Medicines for Ingrown Toenail in Hindi)

इनग्रोन टोनेल पैर का नाखून अन्दर की ओर बढ़ना के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

BASOL CITRIC ACID
DERMOWAX DREP WAX
HEALEX LOGNEG
MAXOZA OTOREX
PROLISER SARWAX
SOLIWAX EAR DROP THROATSIL
TUSPEL UNIWAX
WINVAX ZOREX

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी और समझ आया की इनग्रोन टोनेल, नाखून अंदर की ओर बढ़ना  नाखून का त्वचा में धसना, ओनिकोक्रिप्टोसिस इसके लक्षण , नाखूनों की बीमारी और इलाज क्या है, तो इसे जानकारी के तोर पर अपने दोस्तों से भी शेयर करें. आप हेल्थ प्रैक्टो का फेसबुक पेज भी लाईक करें Health Practo Facebook

[Total: 5   Average: 5/5]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *